औरंगाबाद :छात्रा की मौत पर बवाल, चौथे दिन भी बाजार रही बंद

developer
2 Min Read

संदीप कुमारMagadh Express:औरंगाबाद जिले के नवीनगर छात्रा श्रेया की मौत की घटना को लेकर लोगो का गुस्सा उबाल पर है। वही चौथे भी प्रदर्शन का दौर जारी है। जिसमें चौथे दिन भी नवीनगर बाजार बंद रहा। वही विभिन्न रूट पर चलने वाली तमाम बसे डिपो में खडी रही।सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा। आक्रोशित पुलिस प्रशासन की कार्य शैली पर आक्रोश जता रहे थे। मुख्य सड़कों व चौक-चौराहों के साथ ही गली के रास्ते को भी बाधित कर दिया गया था। मेडिकल, दूध, पानी, एंबुलेंस जैसी इमरजेंसी सेवाओं को भी परेशानियों का सामना करना पड़ा। यूं कहे कि घटना के विरोध में आक्रोश शांत नहीं हो सका है। श्रेया को न्याय दिलाने के लिए जद्दोजहद जारी है। शहरी बाजार के साथ-साथ तंग गलियों में बैरिकेडिंग लगाया गया था।लोग पुलिसिया जांच के अंतिम फैसले का इंतजार कर रहे है। पुलिसिया जांच के बाद ही पूरी स्थिति स्पष्ट होगी।प्रदर्शनकारियों का कहना था कि श्रेया की मौत आत्महत्या नहीं बल्कि हत्या है और इसे छिपाने का प्रयास किया जा रहा है। जब तक श्रेया को न्याय नहीं मिल जाता तब तक वे चुप बैठने वाले नहीं है। पुलिस तीन लोगों को पकड़कर वाहवाही लूट रही है। जब तक इस मामले में दूध का दूध और पानी का पानी नहीं हो जाता वे शांत नहीं रहेंगे।वही भारतीय स्टेट बैंक, सेंट्रल बैंक आफ इंडिया एवं पंजाब नेशनल बैंक में ताला लटका रहा। एटीएम बंद रहा जिस कारण ग्रामीण परेशान हुए। बैंक बंद रहने से लाखों का कारोबार प्रभावित हुआ है। एटीएम से पैसे की निकासी नहीं हुई। वही छोटे-बड़े वाहनों का भी परिचालन सड़क पर पूर्णतः ठप रहा। वाहनों के नहीं चलने से यात्रियों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने में कठिनाइयों का सामना करना पड रहा है। वही बंद से आम जन जीवन प्रभावित हो रही है। वही बाजार बन्द रहने के कारण मेहनत मजदूरी करने वाले के समक्ष भुखमरी की स्तिथी बनी हूई है। कच्चे रोजगार करने वाले लोग भी बंद से प्रभावित है।

Share This Article